हरियाणा की खाप पंचायतों ने दी Haryana Govt को चेतावनी, महिला कोच के साथ खेलमंत्री संदीप सिंह पर लगाए गए यौन शोषण के आरोप में

सोमवार (02 जनवरी) को हरियाणा (Haryana) के झज्जर जिले (Jhajjar district) में एक खाप पंचायत (Khap Panchayat) का आयोजन किया गया। ये खाप पंचायत

हरियाणा सरकार (Haryana Government) के पूर्व मंत्री संदीप सिंह (Ex Minister Sandeep Singh) को लेकर आयोजित की गई थी। इस खाप पंचायत में हरियाणा

सरकार को चेतावनी दी गई है कि वो यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे पूर्व खेल मंत्री संदीप सिंह को या तो 7 जनवरी तक हटा दें या फिर खाप पंचायत के आंदोलन (Protest) का सामना करने की तैयारी कर लें।

खाप पंचायतों की Haryana Government को चेतावनी
झज्जर जिले के एक गांव में 12 धनखड़ खाप की इस पंचायत में खापों और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था। खाप के एक प्रतिनिधि ने कहा कि बैठक में राज्य

सरकार से महिला कोच के लिए जल्द से जल्द न्याय सुनिश्चित करने और मंत्री को बर्खास्त करने का आग्रह किया गया। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ऐसा करने में असफल रहती है, तो खाप एक बड़ा आंदोलन शुरू करेगी।

खाप पंचायत की Minister की तत्काल गिरफ्तारी की मांग
खाप पंचायत ने इस दौरान पूर्व मंत्री की तत्काल गिरफ्तारी की भी मांग की, जिस पर महिला कोच की शिकायत पर चंडीगढ़ पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

खाप सदस्यों ने अपनी आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि जब तक आरोपी मंत्री की कुर्सी पर बैठा रहता है तब तक निष्पक्ष जांच संभव नहीं है। खाप सदस्यों ने अपनी आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि जब तक आरोपी मंत्री की कुर्सी पर बैठा

रहता है तब तक निष्पक्ष जांच संभव नहीं है। खाप नेता युद्धबीर सिंह ने कहा, ‘जब तक शिकायतकर्ता को न्याय नहीं मिल जाता, तब तक हम अपना संघर्ष जारी रखेंगे। सरकार को मंत्री को हटाकर निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करनी चाहिए।

जानिए क्या था पूरा मामला
हरियाणा की एक महिला कोच ने खेलमंत्री संदीप सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे जिसके बाद रविवार (1 जनवरी) को इस मामले पर एफआईआर दर्ज की गई और संदीप सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

इस मामले में कथित तौर पर पीड़िता महिला कोच ने बताया कि खेल मंत्री ने उसे सरकारी आवास पर बुलाया और उसके साथ छेड़छाड़ की इतना ही नहीं मंत्री की बात नहीं मानने पर

मंत्री ने उस महिला कोच की टीशर्ट फाड़ दी थी। महिला कोच ने ये भी बताया कि इस दौरान जब मैंने शोर मचाया था तो वहां मौजूद स्टाफ में से कोई भी उसकी मदद के लिए आगे नहीं आया था।