अम्बाला मे स्वास्थ्य केंद्रों पर आक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाने की योजना पर शुरू हुआ काम

अंबाला के सभी 16 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट लगाने को मंजूरी मिल चुकी है। पीएचसी पर लगने वाले ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट की क्षमता प्रति मिनट

100 लीटर मेडिकल ऑक्सीजन बनाने की क्षमता होगी। जनरेटर स्थापित करने के लिए टेंडर आमंत्रित किया जाना है।देश और प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए

स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है। इसी कड़ी में अंबाला प्रदेश का ऐसा पहला जिला बन गया है, जहां सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) में ऑक्सीजन जैनरेटर प्लांट लगाए जाएंगे।

जिला में 16 पीएचसी हैं, जहां पर ऑक्सीजन जैनरेटर प्लांट लगाने की मंजूरी मिल चुकी है। जरूरत पड़ने पर मेडिकल आक्सीजन जिला स्तर पर ही उपलब्ध हो जाएगी।

दूसरी ओर नागरिक अस्पताल अंबाला शहर, अंबाला छावनी और नारायणगढ़ के अलावा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

(सीएचसी) में भी ऑक्सीजन जैनरेशन प्लांट लगाने की तैयारियां हैं। स्वास्थ्य विभाग के पंचकूला स्थित मुख्यालय से इस योजना को हरी झंडी मिल चुकी है।

जिले के इन पीएचसी पर लगेगा प्लांट

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बोह, माजरी, नन्यौला, नूरपुर, पंजोखरा, नहोनी, समलेहड़ी, साहा, उगाला, बिहटा, केसरी, अंबली, कुराली, पतरहेड़ी, धनाना

और बरवाला में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट लगाया जाएगा। इस पर जल्द ही काम शुरू होने की उम्मीद है।प्रति मिनट बनेगी 100 लीटर ऑक्सीजन

पीएचसी पर लगने वाले ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट की क्षमता प्रति मिनट 100 लीटर मेडिकल ऑक्सीजन बनाने की क्षमता होगी।

प्लांट को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में ही स्थापित किया जाएगा। प्लांट से सीधे मरीज के बेड तक ऑक्सीजन की सप्लाई होगी।

प्लांट चलाने के लिए लगेंगे जेनरेटर

ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट चलने में बिजली की समस्या न होने पाए, इसके लिए जेनरेटर भी लगाए जाएंगे। साथ ही वैकल्पिक ऊर्जा के रूप में सोलर प्लांट भी लगाए जाने को

लेकर उच्च स्तरीय विचार विमर्श चल रहा है। हालांकि अभी प्लांट को चलाने के लिए जनरेटर स्थापित करने के लिए टेंडर आमंत्रित किया जाना है।

मुख्यालय से आक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाने की योजना मंजूर, जल्द शुरू होगा काम

अंबाला के सभी 16 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट लगाने को मंजूरी मिल चुकी है।

पीएचसी पर लगने वाले प्लांट एक मिनट में 100 लीटर ऑक्सीजन तैयार कर सकेंगे। प्लांट लगाने का काम जल्द ही शुरू होगा।