हरियाणा के अलवर से चरखी दादरी के बीच बिछाई जाएगी रेल लाइन 17 स्टेशन है शामिल, देखे रूट

देश में अलग अलग शहरों को रेल लाइन से जोड़ने का काम किया जा रहा है। कई शहरों को आपस में जोड़ने और यात्रियों को यातायात की बेहतर सुविधा देने के भी रेल लाइन बिछाई

जा रही हैं। वहीं अब अलवर और चरखी दादरी के बीच भी रेल लाइन बिछाने का काम किया जा रहा है। लेकिन इसमें अब एक हैरानी वाली खबर आई है।

अलवर और चरखी दादरी के बीच बनेंगे सत्र स्टेशन

दरअसल आरटीआई रिपोर्ट्स से इस रेल लाइन की खबर सामने आई है जिसमें स्टेशनों से जुड़ी जानकारी भी सामने आ रही है।

लेकिन स्टेशनों की लिस्ट में महेंद्रगढ़ और नारनौल का नाम शामिल नहीं किया गया है। जबकि इन्हीं दो शहरों से सबसे ज्यादा इस रेलवे लाइन की मांग की जा रही थी।

ऐसे में इन दोनों शहरों के लोगों में भी नाराजगी हो सकती है। आइए जानते हैं खबर को विस्तार से

अलवर से चरखी दादरी के बीच बिछाई जाएगी रेल लाइन

अलवर और चरखी दादरी के बीच रेल लाइन बिछाने का सर्वे कार्य पूरा हो चुका है। इस बात का खुलासा आरटीआई रिपोर्ट से हुआ है।

बताया जा रहा है कि इस सर्वे के अनुसार अलवर और चरखी दादरी के बीच 17 स्टेशन प्रस्तावित हैं। कनीना और काठुवास को जंक्शन बनाया जाने वाला है।

लेकिन इस रिपोर्ट में सबसे हैरानी वाली बात ये है कि इसमें महेंद्रगढ़ और नारनौल में कोई भी स्टेशन प्रस्तावित नहीं है।

जाने स्टेशनों के नाम

जबकि इन दो शहरों से पिछले लंबे समय से इस रेल लाइन कि मांग की जा रही थी। लेकिन प्रोजेक्ट में इन दोनों ही इलाकों को दरकिनार कर दिया गया है।

सर्वे में अलवर और चरखी दादरी को लगातार कुल 19 स्टेशन हैं जिसमें जिंदौली, ततारपुर, रनोथ, उल्हेरी, जाट बहरोड़, नीमराना, साजनपुर नयागांव,

मांढन, काठुवास, नांगल जमालपुर, गोमला, रामबास, कनीना खास, बाघोत, चिड़िया, मौरी, रामनगर भी शामिल है।

नारनौल और महेंद्रगढ़ हैं अहम शहर

बता दें कि नारनौल ज़िला मुख्यालय है और यहाँ से हजारों लोग रोजन चंडीगढ़ का सफर करते हैं। वहीं महेंद्रगढ़ में हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय भी हैं जहां से देश विदेश से

बच्चे पढ़ाई करने के लिए आते हैं। महेंद्रगढ़ में जल्द ही आईएमटी भी बनने वाला है। ऐसे में इन शहरों को रेल सर्वे में

शामिल न करना कहीं से भी उचित नज़र नहीं आ रहा है। इससे आमजन को भी काफी परेशानी हो सकती है।