हरियाणा रोडवेज मे हुई जीपीएस सिस्टम की नई शुरुवात, ट्रैन की तरह देख पाएंगे बस की लोकेशन

रोहतक: हरियाणा रोडवेज को अब पूरी तरह से हाईटेक बनाते हुए प्रदेश की जनता को बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जा रहा है।

रोडवेज में जहां नई और आधुनिक डिजाईन की बसों को उतारा जा रहा है, वहीं इलेक्ट्रिोनिक बसें भी बेडे में शामिल की जा रही हैं। सरकार का मानना है

कि हरियाणा रोडवेज आम आदमी के लिए आवागमन का सबसे बेहतर विकल्प है। प्रदेश में हर रोज लाखों लोग हरियाणा रोडवेज की बसों से यात्रा करते हैं।

इसलिए उन्हें सुविधाजनक विकल्प मिलना ही चाहिए। इसी कड़ी में हरियाणा से हिल स्टेशन के लिए मिनी बसें भी चलाई गई हैं, ताकि लोग रोडवेज के जरिए पहाड़ों की सैर कर सकें।

इसके साथ ही हरियाणा रोडवेज को देश के तमाम बड़े धार्मिक स्थलों तक ले जाने के लिए रोडवेज की सेवाएं चल रही हैं।

बसों में लगेंगे जीपीएस

इसी कड़ी में अब हरियाणा रोडवेज को हाईटेक सुविधा प्रदान की जा रही है। रोडवेज की बसों में निगरानी के लिए जीपीएस सुविधा शुरू की गई है।

हरियाणा रोडवेज की बसों की निगरानी रखने के लिए उनमें जीपीएस तकनीक लगाई गई है। बताया जाता है कि जीपीएस तकनीक से हर समय बसों पर निगरानी रखी जा सकती है।

इस तकनीक के द्वारा कंप्यूटर पर बैठे हुए देखा जा सकता है कि बस को किस रूट पर कितना चलाया जा रहा है। इससे बसों के सभी रूट की जानकारी ऑनलाईन मिल जाएगी।

बदल जाएगा टिकट काटने का तरीका

इसके अलावा रोडवेज की बसों में अब टिकट काटने का सिस्टम भी पूरी तरह से बदलने वाला है। बसों में यात्रियों को पर्ची वाली टिकट नहीं दी जाएगी।

उनके स्थान पर बसों में कंडक्टर को ई-टिकट प्रणाली के माध्यम से टिकट उपलब्ध करवाई जाएगी। इसकी शुरूआत रोहतक डिपो से की जा रही है।

शुरूआती चरण में रोहतक डिपो को ई-टिकटिंग मशीनें दी जा रही हैं। संभावना है कि अगस्त के शुरूआत में ही रोहतक रोडवेज डिपो में यह मशीनें पहुंच जाएंगी।

इसके लिए कंडक्टरों को प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है, उन्हें इस मशीन को कैसे उपयोग करना है, इसकी भी जानकारी उन्हें इस टे्रनिंग के माध्यम से दी गई है। फिलहाल रोहतक डिपो में 205 बसें संचालित हो रही हैं।

रोडवेज को होगा लाखों रुपए का लाभ

बताया गया है कि इस नई प्रणाली के लागू होते ही हरियाणा रोडवेज को आर्थिक रूप से काफी अधिक लाभ होगा। इससे पहले हरियाणा रोडवेज में लाखों रुपए की टिकट प्रिंट होती थीं।

पंरतु यह मशीनें आने से विभाग को लाखों रुपए का यह बड़ा लाभ होगा। उसके साथ ही कई बार अनेक कंडक्टरों पर टिकटों में हेराफेरी करने के आरोप भी लगते थे,

मगर इन मशीनों के आने के बाद इस तरह के मामलों पर अंकुश लग सकेगा। जानकारी दी गई है कि ई टिकट मशीनों के साथ एक टे्रनर भी बस में मौजूद रहेगा।

जो यात्रियों को टिकट उपलब्ध करवाएगा, साथ ही मशीनों में होने वाली किसी भी गड़बड़ी को भी ठीक करने में सक्षम होगा। माना जा रहा है कि जीपीएस और ई टिकट मशीन से हरियाणा रोडवेज को बड़ा लाभ होने जा रहा है।