हरियाणा के 20 गांव से होकर गुजरेगा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे, जाने कौन से गावँ है शामिल

Haryana Greenfield Expressway: जेवर एयरपोर्ट और यमुनानगर एक्सप्रेसवे को दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे से जोड़ने के लिए ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जा रहा है।

इस एक्सप्रेस-वे को बनाने के लिए कंपनी का भी चुनाव हो चुका है। यहां तक कि कंपनी की ओर से ब्लूप्रिंट भी तैयार कर लिया गया है। अगले 2 साल के भीतर हरियाणा को एक और

orig 80 1642982088

एक्सप्रेसवे मिल जाएगा। खास बात यह है कि यह एक्सप्रेसवे हरियाणा के 20 गांव से होकर गुजरेगा। हरियाणा में बनने जा रहे इस ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे को बनाने की तमाम तैयारियां

शुरू हो चुकी है। 31 किलोमीटर के इस एक्सप्रेस-वे को बनाने के लिए 12 कंपनियां दौड़ में थी, जिसके बाद इफको इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड को इस एक्सप्रेस-वे को बनाने की जिम्मेदारी दी गई है।


हरियाणा में 31 किलोमीटर के ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण होने जा रहा है। यह एक्सप्रेसवे 2414 करोड़ रूपए की लागत से बनाया जाएगा।

swarajya 2021 09 c8e07f38 6a53 4921 87f9 b3e9d847b831 Ambala Kotputli greenfield corridor

एक्सप्रेस वे को बनाने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी को चुना गया है। कंपनी की ओर से एक्सप्रेसवे निर्माण की तमाम तैयारियां भी शुरू कर दी गई है।

हरियाणा के 20 गांव से गुजरेगा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे
ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के ब्लू प्रिंट में गौतम बुद्ध नगर और फरीदाबाद के 20 गांव शामिल किए गए हैं। जिसमे गौतम बुद्ध नगर के 6 और फरीदाबाद के 14 गांव लिए गए हैं।

गांवों के नाम इस तरह से हैं। गौतम बुद्ध नगर के दयानतपुर, बल्लभनगर, करौली बांगर, फलैदा बांगर, अमरपुर और झुप्पा गांव है. वहीं फरीदाबाद के फलैदा खादर, बाहपुर कलां,

Express way 1200

छांयसा, मोहियापुर, मोहना, हीरापुर, मेहमदपुर, नरहावाली, पन्हेरा खुर्द, फफूंडा, बाहभलपुर, सोताई, चनावली और शाहूपुरा गांव से गुजरेगा।

ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे को बनाने की दौड़ में 12 कंपनियां
दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे को जोड़ने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण की 12 कंपनियां शामिल थी। जिसमें जीआर इंफ्राप्रोजेक्ट्स लिमिटेड, मोंटेकार्लो लिमिटेड, पीएनसी

इंफ्राटेक लिमिटेड, अदानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड, एचजी इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड, एप्को इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड, केसीसी बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड, सीडीएस इंफ्रा प्रोजेक्ट्स

pooranchal exp way

लिमिटेड, दिनेश चंद्र आर अग्रवाल इंफ्राकॉन प्राइवेट लिमिटेड, ग्वार कंस्ट्रक्शन लिमिटेड, ओरिएंटल स्ट्रक्चरल इंजीनियर्स

प्राइवेट लिमिटेड और अशोका बिल्डकॉन लिमिटेड भी थी लेकिन अंत में इफको इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड को इसकी जिम्मेदारी दी गई।

31किलोमीटर हाईवे का यूपी में रहेगा 7 किलोमीटर
हरियाणा के बल्लभगढ़ से होते हुए चंदावली के पास दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस वे का एक हिस्सा गुजर रहा है। बल्लभगढ़ से जेवर की दूरी करीब 31 किमी है।

1600x960 361565 02082022 photo22947045

हरियाणा सरकार के साथ मिलकर यूपी सरकार ने जेवर पाइंट पर दोनों एक्सप्रेस वे को जोड़ने की मांग की थी। हालांकि शुरू में जमीन अधिग्रहण के खर्च पर हरियाणा सरकार राजी नहीं

हुई थी। 31 किमी के हाइवे में 7 किमी का हिस्सा यूपी में है और बाकी का हरियाणा में। बल्लभगढ़ से आने वाली सड़क यमुना एक्सप्रेसवे के 32वें किलोमीटर पर जुड़ेगी।

यहां इंटरचेंज की मदद से ट्रैफिक यमुना एक्सप्रेसवे पर आगे बढ़ जाएगा। इंटरचेंज पर ही चार Loop भी बनाए जाएंगे. दो लूप चढ़ने और दो उतरने के लिए होंगे।