रोहतक के DC ऑफिस के बाहर शिक्षा विभाग के कलर्कों ने की भूख हड़ताल, जाने क्या थी वजह

हरियाणा के रोहतक में शिक्षा विभाग के क्लर्कों ने डीसी ऑफिस में पड़ाव डालकर एक दिवसीय सांकेतिक भूख हड़ताल की।

यहां उन्होंने निर्णय लिया कि मांगों को लेकर 21 अगस्त को शिक्षा मंत्री के आवास पर हल्ला बोल प्रदर्शन करेंगे।इस सांकेतिक भूख हड़ताल का नेतृत्व हरियाणा एजुकेशन

मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन संबंधित सर्व कर्मचारी संघ के जिला प्रधान रामप्यारा हुड्डा ने किया और संचालन सचिव राजेश खरकड़ा ने किया। इस दौरान राज्य प्रधान संदीप सांगवान,

उपप्रधान कमलकांत सहरावत ने कहा कि भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार जनता की सेवा के लिए खोले गए महकमों का तेजी से निजीकरण कर रही है।

सरकार की रीढ़ कहलाने वाले शिक्षा विभाग के क्लर्क सरकार व विभाग की अनदेखी के चलते हमेशा अपनी मांगों और हकों के लिए सड़कों पर रहने को मजबूर है,

लेकिन फिर भी सरकार कर्मियों की मांगों की तरफ ध्यान देने की बजाय उन्हें बार-बार बरगलाने का काम कर रही है।

अब हेमसा ने अपनी मांग व मुद्दों को लेकर सरकार के खिलाफ आर-पार की लड़ाई का बिगुल बजा दिया है।

21 अगस्त को करेंगे शिक्षा मंत्री आवास पर प्रदर्शन

उन्होंने कहा कि सरकार व शिक्षा विभाग की अफसरशाही लगातार शोषण कर रही है। वेतनमान की बात हो या पदोन्नति मिनिस्ट्रियल स्टाफ कर्मचारी लगातार पिछड़ता ही जा रहा है।

सरकार ने पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए पब्लिक सेक्टर को लूटने के लिए अपने कॉर्पोरेट मित्रों को खुली छूट दे दी है।

अपनी मांगों को लेकर लिपिक अपनी मांगों को लेकर 21 अगस्त को शिक्षा मंत्री आवास पर हल्ला बोल प्रदर्शन करेंगे।

यह है मांगें

लिपिक का वेतन 35400, सहायक 44900, उपअधीक्षक 47600, अधीक्षक 56100 करवाने, दूर-दराज स्थानांतरित का समायोजन,

विकलांग कर्मियों सहित सभी की पदोन्नति, वरिष्ठता सूची अपडेट, एसीपी 4-9-14 वर्ष की सेवा अनुसार, वर्कलोड अनुसार नए पद व सेवा नियम, एसईटीसी के स्थान पर विभागीय रिफ्रेशर कोर्स लागू करने की मांग है