दिल्ली सरकार के इस कदम से कई परियोजनाओं को मिलेगी रफ्तार, पढ़िए पूरी प्लानिंग

849bfe50ab18033f99eaaca886897b18 original 1

नई दिल्ली,  दो साल से ठप पड़े ढांचागत विकास में अब तेजी आने के आसार हैं। सरकार अगले साल के बजट में प्रस्तावित परियोजनाओं पर फोकस करने जा रही है। परियोजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए वर्ष 2022-23 के बजट में बड़ी राशि का प्रविधान होगा। ढांचागत विकास की छह बड़ी परियोजनाओं पर काम शुरू होना है। जिनके पूरा होने पर दिल्ली ही नहीं, एनसीआर को भी लाभ मिलेगा।

कोरोना के चलते पिछले दो साल से दिल्ली में ढांचागत विकास लगभग ठप है। चल रहीं परियोजनाओं का काम धीमा है। अब हालात सामान्य होने के बाद सरकार की प्राथमिकता सूची में ढांचागत विकास शामिल हो गया है। अगले साल के लिए पेश होने जा रहे दिल्ली सरकार के बजट में इसकी झलक दिखाई देगी, इसमें इन छह योजनाओं को गति दिए जाने की संभावना है।

इस योजना के तहत दिल्ली के पूर्वी छोर से पश्चिमी (ईस्ट-वेस्ट) तक छह लेन का सिग्नल फ्री कारिडोर बनेगा। यानी आनंद विहार से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन होते हुए हरियाणा बार्डर तक छह लेन का कारिडोर प्रस्तावित है। इसकी लंबाई करीब 39 किमी है, लेकिन जमीन को लेकर आ रहीं अड़चन के कारण इसे 19 किमी घटा दिया गया है। रेलवे ने इस पर काम करने की अनुमति दे दी है।

शहीद मंगल पांडेय मार्ग यानी वजीराबाद रोड को सिग्नल फ्री किए जाने की योजना चार साल से अधर में है। इसे यूटिपेक से मंजूरी मिल चुकी है। लोक निर्माण विभाग ने इस रोड को को सिग्नेचर ब्रिज से भोपुरा बार्डर तक सिग्नल फ्री करने की योजना बनाई है। यहां मेट्रो के चौथे फेज का काम चल रहा है, जिसमें यमुना विहार के सामने मेट्रो के एलिवेटेड कारिडोर के पिलर पर ही इस फ्लाईओवर बनाए जाने हैं। इसके बनने से उत्तरी और उत्तरी पूर्वी दिल्ली से गाजियाबाद के भोपुरा तक आना-जाना आसान होगा।

अरबिंदो मार्ग पर आइआइटी से महरौली तक जाम से मिलेगी मुक्ति

अरबिंदो मार्ग को आइआइटी से महरौली के जैन मंदिर तक जाम फ्री बनाने के लिए करीब पौने तीन किमी लंबा एलिवेटेड कारिडोर व दो अंडरपास बनाने की योजना है। लोक निर्माण विभाग ने इस योजना को यूटिपेक के कोर ग्रुप में लगा दिया है।

नार्थ साउथ कारिडोर

यह कारिडोर उत्तरी दिल्ली को आइजीआइ से जोड़ेगा। यह सिग्नेचर ब्रिज से शुरू होगा और जखीरा, पंखा रोड व द्वारका होते हुए हवाई अड्डा के पास खत्म होगा। इसकी लंबाई 28 किमी होगी।

अप्सरा बार्डर से गाजीपुर तक नहीं मिलेगा जाम

उत्तरी पूर्वी दिल्ली से आनंद विहार बस अड्डे तक की आवाजाही आसान करने के लिए अप्सरा बार्डर से आनंद विहार जाने वाले मार्ग नंबर-56 पर स्थित दो लालबत्ती के ऊपर छह लेन का फ्लाईओवर बनाकर सिग्नल फ्री किया जाएगा।

सिग्नेचर ब्रिज से डीएनडी तक एलिवेटेड कारिडोर

सिग्नेचर ब्रिज से डीएनडी तक एलिवेटेड कारिडोर बनाया जाना है। यह कारिडोर रिंग रोड के साथ-साथ बनेगा। इसके बनने से रिंग रोड पर यातायात का दबाव कम होगा। साथ ही एनसीआर के शहरों में पहुंचना आसान होगा।